Desh Jage Desh Jage 1



  • Title: Desh Jage Desh Jage 1
  • Genre: Bharat
  • Language: Hindi
  • Length: 4:39 minutes (3.2 MB)
  • Format: MP3 Stereo 44kHz 96Kbps (CBR)
If you have the lyrics (words) of this song, please send it to us by submitting it in the comments section below. Thanks!

Abvp jindabad
Jindabad jindabad

Bahut achcha geet hai.

My child is going to sing this song for the patriotic competion, she want to casio notation for this song too.

देश जगे देश जगे मंत्र ,सब गूंजा रहे है |
मातृमंदिर के पुजारी ,एक स्वर में गा रहे है ||ध्रु ||
जिसकी चिंगारी ह्रदय में प्रेरणा सहस जगा दे
और तन मन का सहजतम मोह भय भ्रम सब जला दे
उस अनोखी आग को सौ यघ कर सुलगा रहे है
मातृमंदिर के पुजारी ,एक स्वर में गा रहे है ||१||
पथ कठिन हो या सरल हो चलने के सामान मांगे
तेज तूल बलिदान पुलकित देश का सम्मान मांगे
चिरविजय की कमाना हर स्वस्थ्य मन अपना रहे है
मातृमंदिर के पुजारी ,एक स्वर में गा रहे है||२||

शक्ति संचय से विकल जब दीनता का सहज लय हो
मातृसेवा में निहित जब देश का प्रतेक जन हो
वे सुहाने सुखद पल प्रतिपल निकटम आ रहे है
मातृमंदिर के पुजारी ,एक स्वर में गा रहे है ||३||

Can you place the Casio notation for this song? pl hurry

देश जगे देश जगे मंत्र ,सब गूंजा रहे है |
मातृमंदिर के पुजारी ,एक स्वर में गा रहे है ||ध्रु ||
जिसकी चिंगारी ह्रदय में प्रेरणा सहस जगा दे
और तन मन का सहजतम मोह बी बरम सब जला दे
उस अनोखी आग को सौ यघ कर सुलगा रहे है ||१||
पथ कधीं हो या सरल हो चलने के सामान मांगे
चिर्विजय की कमाना हर स्वस्थ्य मन अपना रहे है||२||

सकती संचय से विकल जब दीनता का सहज ले हो
मातृसेवा जब देश का प्रतेक्जन हो
वे सुहाने सुखद पल प्रतिपल निकटम आ रहे है ||३||

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options